Gangs of Wasseypur: Sultan Meets Ramadheer Singh

आज से posts की एक नयी श्रंखला शुरू कर रहे हैं| हिंदी सिनेमा के एक बहुमूल्य हीरे – गैंग्स ऑफ़ वास्सेय्पुर के छोटे छोटे टुकड़ों की समीक्षा

यदि समीक्षा अच्छी लगे तो कमेंट ज़रूर करें तथा पोस्ट को भी साझा करें, आभार रहेगा|

तो आइये आज बात करते हैं उस सीन की जहाँ रामाधीर सिंह को मुसलमानों से हाथ मिलाने की ज़रूरत महसूस होती है और वह सुल्तान को बुलाता है बैठक में और खाने पर|

इस सीन में कई सारी खास बातें हैं जैसे कि

सीन के शुरू में एक ही पंक्ति में हमको पता लग जाता है कि किस दरिंदगी से खून हुआ है कि शिनाफ्थ भी नहीं हो सकती

और फिर जब सुल्तान रामाधीर सिंह के पास बैठा है और रामाधीर की पत्नी को पता चलता है कि मुसलमान घर पर खाने पर आया है तो, मेहमान के सामने ही पूछ लेती है – “चीनीमिट्टी वाले में निकाल देती हूँ”|

और फिर जहाँ रामाधीर और सुल्तान की बातें चालू हैं, वॉइसओवर में, यहाँ पत्नी जी चीख चीख के फुसफुसा रही हैं – “अरे मुल्ला है, चीनीमिट्टी में निकालो”| यह निर्देशन की खूबसूरती है, किस तरह समाज के भेदभाव को सरसता से दर्शाया गया है |

इस सीन की एक और खास बात है जो आप लोगों को बताना ज़रूरी है, जब रामाधीर, सुल्तान से पूछता है कि काम हो पायेगा ना, और सुल्तान कहता है जी हाँ, तो उसके बाद सुल्तान कहता है – थोड़े आटोमेटिक हथियार अगर मिल जाते तो…….

दरअसल यहाँ पर अनुराग कश्यप ने सीन केवल “जी हो जायेगा” तक समझाया था पर शूट के समय कट नहीं बोला, और पंकज त्रिपाठी ठहरे मंजे हुए कलाकार, तो उन्होंने खुद से ही लाइन जोड़ ली – “आटोमेटिक मिल जाते तो”, और इस तरह एक सुन्दर ऐतिहासिक सीन का निर्माण हो
गया|

और आखिर में जब रामाधीर अपने बेटे से कहता है “सीखो कुछ, खाली बैठ के गद्दी गरम कर रहे हो”, तो यह हमारे समाज को एक आइना है जहाँ यह बात लगभग लगभग हर बाप अपने बेटे से कही है| ह्रदय को छु लेने वाला सीन बना दिया इस आखरी पंक्ति ने |

इस फिल्म में उभरते लेखकों और निर्देशकों के लिए सीखने हेतु कई सारी ऐसी छोटी किन्तु महत्वपूर्ण बातें हैं |

तो दोस्तों आज के लिए बस इतना ही, कल फिर हाज़िर होंगे एक और ऐसे ही सुन्दर सीन की समीक्षा के साथ |

यदि आप अपने किसी पसन्दीदा सीन की समीक्षा चाहते हैं तो सीन का YouTube लिंक contact form में भेजें, पर अभी के लिए सीन केवल गैंग्स ऑफ़ वास्सेय्पुर से ही होना चाहिए|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *